Friday, 18 October 2019, 7:08 PM

धर्म-संस्कृति

जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ

Updated on 7 August, 2019, 6:45
जल आदि साजि सब द्रव्य लिया। कन थार धार नुत नृत्य किया। सुख दाय पाय यह सेवल हौं। प्रभु पार्श्व सार्श्वगुणा बेवत हौं। भगवान पार्श्वनाथ जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर हैं। उनकी मूर्ति के दर्शन मात्र से ही जीवन में शांति का अहसास होता है। पार्श्वनाथ वास्तव में ऐतिहासिक व्यक्ति थे। उनसे... Read More

उत्तर भारत के 15 मुख्य मंदिर

Updated on 7 August, 2019, 6:30
उत्तर भारत के महत्वपूर्ण 15 हिन्दू मंदिरों के संबंध में संक्षिप्त जानकारी। 1.बैजनाथ मंदिर : यह भगवान शिव को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है। प्राचीन इतिहास के अनुसार बैजनाथ मंदिर में स्थापित शिवलिंग रावण द्वारा लाया गया था। रावण ने जब भगवान शिव की पूजा की तो शिवजी उन पर प्रसन्न... Read More

आपको भी पता होनी चाहिए रक्षाबंधन की ये 11 खास पारंपरिक बातें

Updated on 7 August, 2019, 6:15
भाई-बहन का पवित्र पर्व रक्षा बंधन मंगलमयी हो और इस पर्व को मनाते समय कोई भूल-चूक न हो, इसके लिए हमें कुछ पारंपरिक बातों का ध्यान रखना चाहिए। अगर राखी बांधते समय आप इन बातों का ध्यान रखेंगे तो निश्चित ही यह आपके लिए और आपके भाई के लिए बहुत फलदायी... Read More

मन की शक्ति 

Updated on 7 August, 2019, 6:00
मन को जीवन का केंद्रबिंदु कहना असंभव नहीं है। मनुष्य की क्रियाओं, आचरणों का प्रारंभ मन से ही होता है। मन तरह-तरह के संकल्प, कल्पनाएं करता है। जिस ओर उसका रुझान हो जाता है उसी ओर मनुष्य की सारी गतिविधियां चल पड़ती है। जैसी कल्पना हो उसी के अनुरूप प्रयास-पुरुषार्थ... Read More

श्रावण मास का मंगलवार : आज अपनी राशिनुसार करें भगवान शिव का अभिषेक, मिलेगा अत्यंत शुभ फल

Updated on 6 August, 2019, 6:30
श्रावण में जिस तरह सोमवार का विशेष महत्व है उसी तरह मंगलवार को भी शुभ माना गया है। श्रावण मास में आने वाले सभी मंगलवार के दिन मंगला गौरी व्रत भी किया जाता है। इसे मंगळागौरी, मंगळागौर भी कहा जाता है। मंगलवार को राशि अनुसार ऐसे करें भगवान शिव का... Read More

कल्कि अवतार होने वाला है या कि हो चुका, जानिए रहस्य

Updated on 6 August, 2019, 6:15
पुराणों में कल्कि अवतार के कलियुग के अंतिम चरण में आने की भविष्यवाणी की गई है। अभी कलियुग का प्रथम चरण ही चल रहा है लेकिन अभी से ही कल्कि अवतार के नाम पर पूजा-पाठ और कर्मकांड शुरू हो चुके हैं। कुछ संगठनों का दावा है कि कल्कि अवतार के... Read More

सांख्य और कर्मयोग का संबंध 

Updated on 6 August, 2019, 6:00
भौतिक जगत के विश्लेषणात्मक अध्ययन (सांख्य) का उद्देश्य आत्मा को प्राप्त करना है। भौतिक जगत की आत्मा विष्णु या परमात्मा है. भगवान की भक्ति का अर्थ परमात्मा की सेवा है। एक विधि से वृक्ष की जड़ खोजी जाती है और दूसरी विधि से उसको सींचा जाता है। सांख्य दर्शन का... Read More

 इस तरह रामचरित मानस बना धर्म शास्त्र 

Updated on 5 August, 2019, 6:00
करीब पांच सौ साल पहले तक कोई धर्म ग्रंथ हिंदी में नहीं था। सभी धर्म ग्रंथ संस्कृत में थे और चूंकि मध्य काल में शिक्षा दीक्षा का चलन काफी कम हो गया था, भक्ति भावना या धर्म श्रद्धा के लिए लोग संस्कृत विद्वानों की ओर ही ताकते थे। ऐसा कोई... Read More

Friendship day 2019 : एस्ट्रोलॉजी से जानिए किन राशियों के लोग होते हैं आपके बेस्ट फ्रेंड, (पढ़ें अपनी राशि)

Updated on 4 August, 2019, 6:45
x4 अगस्त 2019, रविवार को फ्रेंडशिप डे है। यह दिन हम सभी के लिए बहुत महत्व रखता है। कई बार अचानक हुई जान-पहचान जीवनभर की दोस्ती में बदल जाती है, तो कभी दोस्ती होते हुए भी मन नहीं जुड़ पाते। गहरी दोस्ती या फिर दुश्मनी के लिए आपकी राशि और लग्न... Read More

रविवार को दूर्वा गणपति व्रत : भगवान श्री गणेश को दूर्वा चढ़ाने से दूर होंगे सारे कष्ट, पढ़ें ये मंत

Updated on 4 August, 2019, 6:30
4 अगस्त 2019, रविवार को श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस दिन भगवान श्री गणेश को दूर्वा की 21 गांठ चढ़ाने की परंपरा है। इसे विनायकी चतुर्थी और दूर्वा गणपति व्रत कहते हैं। विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश जी की आराधना बहुत मंगलकारी मानी जाती है। उनके भक्त... Read More

दूसरों के दुख से अपना दुख ज्यादा बेहतर

Updated on 4 August, 2019, 6:00
एक कहावत है 'राजा दुखी, प्रजा दुखी सुखिया का दुख दुना।' कहने का अर्थ यह है कि संसार में जिसे देखो वह अपने को दुखी ही कहेगा। राजा का अपना दुख है, प्रजा का अपना और जिसे आप सुखी माने बैठें हैं उससे पूछ कर देंखेंगे तो वह भी अपने... Read More

व्यक्तित्व निर्माण की प्रक्रिया 

Updated on 3 August, 2019, 6:00
बदलाव का प्रम निरंतर चलता है।जैन दर्शन इस प्रम को पर्याय-परिवर्तन के रूप में स्वीकार करता है। पर्याय का अर्थ है अवस्था।प्रत्येक वस्तु की अवस्था प्रतिक्षण बदलती है।यह जगत की स्वाभाविक प्रक्रिया है। कुछ अवस्थाओं को प्रयत्नपूर्वक भी बदला जाता है।स्वभाव से हो या प्रयोग से, बदलाव की प्रक्रिया को... Read More

घर में सुख, समृद्धि बढ़ाता है कछुआ  

Updated on 2 August, 2019, 7:00
चीन के समान ही भारतीय वास्‍तु शास्त्र में कछुआ हमेशा ही बहुत शुभ माना जाता है। यही वजह है कि वास्‍तु और फेंग शुई में कछुए की खास जगह है और फेंग शुई में अधिकतर कछुआ मिलता ही है। माना जाता है कि अगर इसे घर में सही दिशा में... Read More

अंगूठा बता देता है आपके अंदर का राज  

Updated on 2 August, 2019, 6:45
सभी को भविष्य में क्या छिपा है यह राज जानने की जिज्ञासा होती है। जन्मकुंडली के साथ ही हाथ की रेखाएं देखकर भी भविष्य के राज जाने जा सकते हैं। हस्तरेखा विज्ञान में अंगूठे को चरित्र का आइना कहा जाता है। आप इसे देखकर व्यक्ति के बारे में कई गुप्त... Read More

इस प्रकार घर में रहेगी खुशहाली

Updated on 2 August, 2019, 6:15
सभी लोग सुख और खुशहाली से रहना चाहते हैं और इसके लिए धन सबसे अहम होता है। धन के बिना किसी प्रकार के कामकाज नहीं हो सकते। कई बार धन की कमी के पीछे कुछ ऐसे कारण होते हैं जिन्हें हम ज्योतिष उपायों से ठीक कर सकते हैं।  इसका कारण... Read More

इस प्रकार महादेव होंगे प्रसन्न 

Updated on 2 August, 2019, 6:00
देवों के देव महादेव को प्रसन्न करना बहुत आसान है। इनकी पूजा पूरी श्रद्धा और भाव से की जाए तो आप पर भोलेनाथ की कृपा बनी रहेगी। शिव शंकर की महिमा से जुड़ी कई पौराणिक कथाएं हैं। इनके अनुसार शिव स्तुति से प्रभु के हर रूप का ध्यान करने के... Read More

कालसर्प दोष क्या है? इसके भयानक लक्षण और बचाव, जानिए लाल किताब के उपाय

Updated on 1 August, 2019, 6:15
कुछ विद्वान मानते हैं कि काल सर्प दोष नहीं होता और कुछ इसे मानते हैं। दरअसल राहु और केतु के कारण ही काल सर्प दोष होता है। इसलिए लाल किताब में राहु और केतु के अचूक उपाय बताए गए हैं। आओ जानते हैं काल सर्प दोष के बारे में संक्षिप्त... Read More

दोनों प्रकार का धन एक साथ नहीं मिल सकता  

Updated on 1 August, 2019, 6:00
संसार में दो प्रकार का धन होता है भौतिक धन और दूसरा आध्यात्मिक धन। मनुष्य का स्वभाव है कि वह ज्यादा से ज्यादा धन कमाने की चाहत रखता है। कोई व्यक्ति सोना, चांदी, रूपये पैसे का अंबार लगाकर धनवान कहलाता है तो कोई भूखा, प्यासा रहकर भी धनवान कहलता है।... Read More

लाल चींटियों के घर में होने के 4 नुकसान और 5 फायदे

Updated on 31 July, 2019, 6:44
चींटियां मूलत: दो रंगों की होती है लाल और काली। काली चींटी को शुभ माना जाता है, लेकिन लाल को नहीं। लाल को क्यों अशुभ माना जाता है? आओ जानते हैं इस बारे में 5 शुभ और अशुभ मान्यता के बारे में। घर में होने के नुकसान 1.लाल चिंटियों के बारे में... Read More

 साधना और सुविधा

Updated on 31 July, 2019, 6:00
आसक्ति के पथ पर आगे बढ़ने वाले अपनी आकांक्षाओं को विस्तार देते हैं। उनकी इच्छाओं का इतना विस्तार हो जाता है, जहां से लौटना संभव नहीं है। उस विस्तार में व्यक्ति का अस्तित्व विलीन हो जाता है। फिर वह अपने लिए नहीं जीता। उसके जीवन का आधार पदार्थ बन जाता... Read More

कर्म के पाप-पुण्य में फंस जाता है जीव

Updated on 30 July, 2019, 6:00
ईश्वर क्षेत्रज्ञ या चेतन है, जैसा कि जीव भी है, लेकिन जीव केवल अपने शरीर के प्रति सचेत रहता है, जबकि भगवान समस्त शरीरों के प्रति सचेत रहते हैं। चूंकि वे प्रत्येक जीव के हृदय में वास करने वाले हैं, अतएव वे जीवविशेष की मानसिक गतिशीलता से परिचित रहते हैं।... Read More

सुख की उपेक्षा क्यों?

Updated on 29 July, 2019, 6:00
मेरे पास लोग आते हैं। जब वे अपने दुख की कथा रोने लगते हैं, तो बड़े प्रसन्न मालूम होते हैं। उनकी आंखों में चमक मालूम होती है। जैसे कोई बड़ा गीत गा रहे हों! अपने घाव खोलते हैं, लेकिन लगता है जैसे कमल के फूल ले आए हैं। सुख की... Read More

 सुख के स्वभाव में डूबो 

Updated on 28 July, 2019, 6:00
लगता है, आदमी दुख का खोजी है। दुख को छोड़ता नहीं, दुख को पकड़ता है। दुख को बचाता है। दुख को संवारता है; तिजोरी में संभालकर रखता है।   दुख का बीज हाथ पड़ जाए, हीरे की तरह संभालता है। लाख दुख पाए, पर फेंकने की तैयारी नहीं दिखाता। जो लोग... Read More

श्रावण मास 2019 : इस महीने में क्या खाएं, क्या नहीं, आपको पता होना चाहिए यह जानकारी

Updated on 27 July, 2019, 14:30
श्रावण मास में कुछ खास चीजें बिलकुल नहीं खाई जाती हैं। इस बरसते-गरजते मौसम में कुछ फल सब्जियों को नहीं खाना चाहिए। क्योंकि इन सब्जियों में इस समय विषैलापन बढ़ जाता है जो सेहत के लिए ठीक नहीं होता। आइए जानते हैं श्रावण में क्या खाएं और क्या न खाएं श्रावण के... Read More

द्रौपदी के 5 के बजाय 14 पति हो सकते थे, लेकिन

Updated on 27 July, 2019, 13:30
पांचाल देश के राजा द्रुपद की कन्या पांचाली अर्थात द्रौपदी का जन्म एक यज्ञ से हुआ था। महाभारत से इतर एक अन्य कथा के अनुसार द्रौपदी के 5 पति थे, लेकिन वो अधिकतम 14 पतियों की पत्नी भी बन सकती थी। पहली कथा- - महाभारत के आदिपर्व में द्रौपदी के जन्म की... Read More

 इच्छाओं को समर्पित करते जाओ  

Updated on 27 July, 2019, 6:00
सभी इच्छाएं खुशी के लिए होती हैं। इच्छाओं का लक्ष्य ही यही है। िंकतु इच्छा आपको कितनी बार लक्ष्य तक पहुंचाती है? इच्छा तुम्हें आनंद की ओर ले जाने का आभास देती है, वास्तव में वह ऐसा कर ही नहीं सकती। इसीलिए इसे माया कहते हैं। इच्छा वैâसे पैदा होती... Read More

सम्यक दृष्टिकोण की जरूरत  

Updated on 26 July, 2019, 6:00
आज मानवता को बचाने से अधिक कोई करणीय काम प्रतीत नहीं होता। मनुष्य औद्योगिक और यांत्रिक विकास कर पाए या नहीं, इनसे मानवता की कोई क्षति नहीं होने वाली है, िंकतु उसमें मानवीय गुणों का विकास नहीं होता है तो कुछ भी नहीं होता है। एक मानवता बचेगी तो सब... Read More

रुद्राभिषेक से पूरी होंगीं मनोकामनाएं 

Updated on 25 July, 2019, 7:30
भगवान शिव की पूजा में रुद्राभिषेक का अपना ही महत्व है। भगवान शंकर की कृपा के बिना किसी भी देवी देवता की पूजा फलित नहीं होती है। सावन का माह है और ऐसे में रुद्राभिषेक शिव को प्रसन्न करने का सबसे आसान तरीका है। रुद्राभिषेक शिव मंदिर या घर में... Read More

सुखमय जीवन के लिए वास्तु के अनुसार रहे श्यनकक्ष 

Updated on 25 July, 2019, 7:15
विवाहित जीवन में सभी सुख की कामना करते हैं पर कई बार धन संपदा और सारे वैभव होते हुए भी नवविवाहित दम्पति के बीच में तालमेल नहीं बैठ पाता और अलगाव तक की नौबत आ जाती है। ऐसे में एक देखना चाहिये कि कहीं कोई वास्तु दोष तो नहीं है।... Read More

दान से होता है भाग्योदय

Updated on 25 July, 2019, 7:00
भारतीय संस्कृति में दान का इतिहास काफी पुराना है। पूर्व काल में भी राजा-महाराजा प्रसन्नता के अवसरों पर दान करके अपनी खुशी अभिव्यक्त करते थे। दान करने से न केवल आत्मसंतुष्टि व किसी जरूरतमंद की आवश्यकता की पूरी होती है, अपितु आपके जीवन से अशुभता भी घटने लगती है। जानिए... Read More