Friday, 18 October 2019, 7:34 PM

धर्म-संस्कृति

जन्माष्टमी 2019 : श्री कृष्ण को प्रिय हैं ये 6 मंत्र, पढ़ें हिन्दी अर्थ

Updated on 20 August, 2019, 7:00
श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पावन मंत्र   श्री कृष्ण पूजन का हर शास्त्र में विशेष महत्व बताया गया है। आइए 6 विशेष  जन्माष्टमी मंत्रों के माध्यम से जानें कि क्या लाभ मिलता है श्रीकृष्ण का ध्यान लगाने से, उनके पूजन से, उनकी आराधना से...   श्री शुकदेवजी राजा परीक्षित्‌ से कहते हैं-   1. सकृन्मनः कृष्णापदारविन्दयोर्निवेशितं तद्गुणरागि... Read More

ध्वनि तंरगों से रोगें का उपचार  

Updated on 20 August, 2019, 6:00
यह बात जान कर आप सभी को आश्चर्य होगा की ध्वनि तंरगें से भी रोगों के उपाच होते है। यह विश्व जीवों से भरा है। ध्वनि तंरगों की टकराहट से सुक्ष्म जीव मर जाते है, रात्री में सूर्य की पराबैगनी किरणां के अभाव में सूक्ष्म जीव उत्पन्न होते है जो... Read More

वाणी का शरीर पर प्रभाव  

Updated on 19 August, 2019, 6:00
मानव शरीर में अनेक ग्रंथियां होती हैं,पियूष ग्रंथि मस्तिष्क में होती है, उससे 12 प्रकार के रस निकलते है, जो भावनाओं से विशेष प्रभावित होती हैं। जब व्यक्ति प्रसन्नचित होता है, तो इन ग्रनथियों से विशेष प्रकार के रस बहने लगते है, जिससे शरीर पुष्ट होने लगता है, बुद्धि विकसित... Read More

 मौन का तन मन की सुन्दरता के लिये महत्व 

Updated on 18 August, 2019, 6:00
प्रत्येक मनुष्य सुन्दर एवं स्वस्थ्य रहना चाहता है। सुन्दरता एवं स्वस्थ्य का राज मौन मै छिपा हुआ है। सामान्यतŠ चुप रहना मौन है, प्राचीन पुराण बचन के साथ ईष्या, डाह, छल, कपट और हिन्सा को कम करना मोन होता है। मनोवैज्ञानिक ‘फ्रायड’ का कहना है कि जीवन अन्तर्द्वद्वी शृंखलाओं से... Read More

ध्वनि का प्राणी शरीर पर प्रभाव  

Updated on 17 August, 2019, 6:00
यह जानकर खुश होगें की ध्वनि का प्रभाव प्रत्येक जीव के शरीर पर पड़ता है। वर्तमान औधोगिकी करण और तकनीकि से ध्वनि प्रदूषण अधिक मात्रा में बढ़ रहा है। इस ध्वनि प्रदूषण के परिणाम देखते हुये नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ. राबर्ट कॉक ने सन् 1925-26 में एक बात कही थी... Read More

श्री चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल

Updated on 16 August, 2019, 6:00
चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल (1894–1994), जिन्हें कांची या महापरियावा के ऋषि के रूप में भी जाना जाता है, कांची कामकोटि पीठम के 68वें जगद्गुरु थे। जीवन : महापरियावा का जन्म और पालन-पोषण दक्षिण अर्कोट जिले के विल्लुपुरम में हुआ था। उनका जन्म नाम स्वामीनाथन था। उनका परिवार स्मार्त ब्राह्मण संप्रदाय से संबंधित... Read More

घर का प्रवेश द्वारा हो वास्‍तु के अनुसार 

Updated on 15 August, 2019, 7:00
जीवन में सभी लोग सुख और सुविधाएं चाहते हैं और उसके लिए सभी प्रयास करते हैं। कई बार घर में सब कुछ ठीक होने के बावजूद कुछ ठीक नहीं होता। मन और घर में नकारात्‍मक ऊर्जा रहती है। इसके पीछे कई बार घर के मुख्‍य से जुड़े वास्‍तु दोष होते... Read More

यंत्र से मिलता है जीवन की समस्याओं का समाधान 

Updated on 15 August, 2019, 6:45
हिन्दू धर्म के अनेक ग्रंथों में कई तरह के चक्रों और यंत्रों के बारे में विस्तार से उल्लेख किया गया है। जिनमें राम शलाका प्रश्नावली, हनुमान प्रश्नावली चक्र, नवदुर्गा प्रश्नावली चक्र, श्रीगणेश प्रश्नावली चक्र आदि प्रमुख हैं। कहते हैं इन चक्रों और यंत्रों की सहायता से लोग अपने मन में... Read More

इस कारण मंदिर के प्रवेश स्थान पर लगाई जाती है घंटी 

Updated on 15 August, 2019, 6:00
कहते हैं, पूजा करते वक्त घंटी जरूर बजानी चाहिए। ऐसा मानना है कि इससे ईश्वर जागते हैं और आपकी प्रार्थना सुनते हैं। लेकिन हम आपको यहां बता रहे हैं कि घंटी बजाने का सिर्फ भगवान से ही कनेक्शन नहीं है, बल्क‍ि इसका वैज्ञानिक असर भी होता है। यही वजह है... Read More

अयोध्या में राम मंदिर होने के सबूत

Updated on 14 August, 2019, 7:00
अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है। यहां महल, मंदिर और तमाम तरह के आश्रम बने हुए थे। लेकिन गुलामी के काल में यह सभी तोड़ दिए गए। कहा गया कि लुटेरे बाबर के काल में राम मंदिर तोड़कर वहां पर बाबरी मस्जिद बना दी गई थी। तभी से यह मुद्दा... Read More

जो नहीं है उसे पाना हो ध्येय

Updated on 14 August, 2019, 6:00
असंतुष्ट होने का अर्थ दुखी होना नहीं है। असल में कोई आदमी पूरी तरह सुखी होकर भी असंतुष्ट हो सकता है। सुखी होने का मतलब है, जो है, उसे आनंद से भोगना। और असंतुष्ट होने का अर्थ है: जो नहीं है उसे आनंद से पैदा करने का श्रम करना। जब... Read More

तिरुपति बालाजी मंदिर में भक्तों का तांता, एक दिन में आया 3 करोड़ से ज्यादा का चढ़ावा

Updated on 13 August, 2019, 10:20
नई दिल्ली/तिरुमाला: तिरुमाला पर्वत पर स्थित भगवान तिरुपति बालाजी के मंदिर की महत्ता कौन नहीं जानता. हर साल करोड़ों लोग इस मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं. ऐसा माना जाता है कि यह स्थान भारत के सबसे अधिक तीर्थयात्रियों के आकर्षण का केंद्र है. तिरुपति बालाजी मंदिर दुनिया के... Read More

राम के जुड़वां पुत्र लव और कुश का भारत में कहां-कहां राज्य था?

Updated on 13 August, 2019, 6:45
लव और कुश राम तथा सीता के जुड़वां बेटे थे। कहते हैं कि जब राम ने वानप्रस्थ लेने का निश्चय कर भरत का राज्याभिषेक करना चाहा तो भरत नहीं माने। अत: दक्षिण कोसल प्रदेश (छत्तीसगढ़) में कुश और उत्तर कोसल में लव का अभिषेक किया गया। हालांकि यह अभी भी... Read More

राम के पुत्र लव और कुश की वंशावली

Updated on 13 August, 2019, 6:30
राम के दो जुड़वा पुत्र लव और कुश थे। दोनों का ही वंश आगे चला। वर्तमान में दोनों के ही वंश के लोग बहुतायत में पाए जाते हैं। आओ जानते हैं कि कौन है लव और कुश के कुल के लोग जो भारत में आज भी निवास करते हैं। - ब्रह्मा... Read More

जीवन के चार आधार

Updated on 13 August, 2019, 6:00
सुसंस्कारिता के चार आधार हैं- समझदारी, ईमानदारी, जिम्मेदारी और बहादुरी। इन्हें आध्यात्मिक-आंतरिक वरिष्ठता की दृष्टि में उतना ही महत्वपूर्ण माना जाना चाहिए जितना शरीर के लिए अन्न, जल, वस्त्र और निवास अनिवार्य समझा जाता है। समझदारी का अर्थ है- दूरदर्शी विवेकशीलता अपनाना। आमतौर से लोग तात्कालिक लाभ को सब कुछ... Read More

बस यादों में रह गये है सावन के झूले 

Updated on 12 August, 2019, 6:30
सावन के झूलों ने मुझको बुलाया मैं परदेसी घर वापस आया। ऐसे गाने सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाते हैं। एक दौर था जब लोगों को सावन के महीने का बेसब्री से इंतजार रहता था। सावन शुरू होते ही गांव की गलियों से लेकर शहरों तक... Read More

 श्रावण सोमवार का महत्व 

Updated on 12 August, 2019, 6:15
हिन्दू धर्म के अनुसार श्रावण मास सर्वश्रे… मास माना गया है, क्योंकि यह मास भगवान शंकर का अतिप्रिय मास है, इस मास में जाप, अनु…ान, रूद्राभिषेक पूजन और भिन्न-भिन्न रूपों में भगवान शंकर की महिमा का गुणगान किया जाता है, श्रावण मास में सोमवार का विशेष महत्व होता है, श्रावण... Read More

उपयोगी हल 

Updated on 12 August, 2019, 6:00
एक बार की बात है एक राजा था। उसका एक बड़ा-सा राज्य था।एक दिन उसे देश घूमने का विचार आया और उसने देश भ्रमण की योजना बनाई और घूमने निकल पड़ा। जब वह यात्रा से लौट कर अपने महल आया। उसने अपने मंत्रियों से पैरों में दर्द होने की शिकायत... Read More

विभिन्न संप्रदायों में त्रिमूर्ति का रहस्य

Updated on 11 August, 2019, 6:30
हिन्दू धर्म में त्रिमूर्ति अर्थात मुख्य 3 देवता हैं, जो सृजन, संरक्षण और विनाश का मुख्य कार्य करते हैं। इसमें ब्रह्मा को सृष्टि का निर्माता, विष्णु को रक्षक या पालनहार और शिव को संहारक या विनाश का देवता कहा जाता है। दत्तात्रेय अवतार त्रिमूर्ति का अवतार है। त्रिमूर्ति की अवधारणा... Read More

सबसे पहले बहन ने राखी बांधी थी या किसी और ने?

Updated on 11 August, 2019, 6:15
रक्षा बंधन के संबंध में कई सवाल है, पहला यह कि पहले रक्षा बंधन या राखी के त्योहार को क्या कहते थे? अधिकतर लोग कहेंगे कि रक्षा सूत्र। दूसरा सवाल यह कि सबसे पहले राखी किसने किसको बांधी थी? मतलब यह कि बहन ने भाई को बांधी थी या कि... Read More

सम्यक दृष्टिकोण की जरूरत

Updated on 11 August, 2019, 6:00
आज मानवता को बचाने से अधिक कोई करणीय काम प्रतीत नहीं होता। मनुष्य औद्योगिक और यांत्रिक विकास कर पाए या नहीं, इनसे मानवता की कोई क्षति नहीं होने वाली है, किंतु उसमें मानवीय गुणों का विकास नहीं होता है तो कुछ भी नहीं होता है। एक मानवता बचेगी तो सब... Read More

दो अमेरिकी श्रद्धालुओं ने भगवान वेंकटेश्वर मंदिर को दान किए 14 करोड़ रुपए

Updated on 10 August, 2019, 6:45
तिरुपति (आंध्रप्रदेश)। अमेरिका में रहने वाले 2 भारतीय उद्यमियों ने तिरुमला के निकट स्थित प्रसिद्ध भगवान वेंकटेश्वर मंदिर को 14 करोड़ रुपए दान किए हैं। मंदिर के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि दानकर्ताओं ने नाम जाहिर न करने का आग्रह करते हुए देवी श्री वरलक्ष्मी व्रतम... Read More

 व्यक्तिगत चेतना का विस्तार 

Updated on 10 August, 2019, 6:00
दूसरों के सुख-दुख का भागी बनने से हमारी व्यक्तिगत चेतना विकसित होकर विश्व चेतना बन जाती है। समय के साथ जब ज्ञान की वृद्धि होती है, तब उदासीनता संभव नहीं। तुम्हारा आंतरिक स्रोत ही आनन्द है।अपने दु:ख को दूर करने का उपाय है विश्व के दुख में भागीदार होना और... Read More

घर के कोनों पर निर्माण से पड़ता है विपरीत प्रभाव

Updated on 8 August, 2019, 7:15
कई बार देखा जाता है कि नये घर में जाने के बाद व्यक्ति की परेशानियां बढ़ जाती हैं। इसके पीछे सही वास्तु के अनुसार घर का निर्माण नहीं होना भी जिम्मेदार हो सकता है। कई घरों में लोग किसी एक कोने में भी निर्माण करा लेते हैं। कोई कमरा या... Read More

घर के कोनों पर निर्माण से पड़ता है विपरीत प्रभाव

Updated on 8 August, 2019, 7:15
कई बार देखा जाता है कि नये घर में जाने के बाद व्यक्ति की परेशानियां बढ़ जाती हैं। इसके पीछे सही वास्तु के अनुसार घर का निर्माण नहीं होना भी जिम्मेदार हो सकता है। कई घरों में लोग किसी एक कोने में भी निर्माण करा लेते हैं। कोई कमरा या... Read More

इस प्रकार होता है दैवीय गुणों का विकास 

Updated on 8 August, 2019, 7:00
दैवीय गुणों का विकास करने के लिए आध्यात्मिक जीवन के अभ्यासी बनें क्योंकि इस जीवनशैली में स्वाभाविक रूप से जीवन की सिद्धि, सफलताएं, समाधान और कल्याण के सूत्र मौजूद हैं। इसमें क्षमाशीलताएं, विनय और परमार्थ जैसे अनेक सद‌्गुणों का स्थायी वास रहता है। जन्म, जरा और मृत्यु भौतिक शरीर को... Read More

भगवान की ऐसी प्रतिमाएं न रखें 

Updated on 8 August, 2019, 6:45
हिंदू धर्म के ज्यादातर घरों में भगवान का मंदिर या फिर मूर्तियां होती हैं, जिनके हर रोज दर्शन और पूजा करते हैं। हम पूजा इस आस्था से करते हैं कि इनका शुभ प्रभाव घर पर पड़े, क्योंकि भगवान के दर्शन मात्र से ही मन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता... Read More

इसलिए भोलेनाथ के लिए खास है सोमवार 

Updated on 8 August, 2019, 6:30
सोमवार का द‍िन भगवान श‍िव की पूजा के लि‍ए खास माना जाता है। कहते हैं क‍ि इस द‍िन श‍िव जी बहुत जल्‍द खुश होते हैं।  हिंदू शास्‍त्रों में सोमवार का द‍िन मुख्‍य रूप से भगवान श‍िव जी का द‍िन माना जाता है। मान्‍यता है क‍ि शंकर जी शांत, सौम्‍य और भोले... Read More

सावन सोमवार के दिन प्रदोष व्रत से होंगी मनोकामनाएं पूरीं 

Updated on 8 August, 2019, 6:15
प्रदोष व्रत में भगवान शिव की उपासना की जाती है। यह व्रत हिंदू धर्म के सबसे शुभ व महत्वपूर्ण व्रतों में से एक है। माना जाता है कि प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति के पाप धूल जाते हैं और उसे मोक्ष प्राप्त होता है। इस... Read More

 'थुकदम’ पर शोध खोलेगा जीवन-मृत्यु का रहस्य 

Updated on 8 August, 2019, 6:00
गीता में कहा गया है कि शरीर तो एक पुतला मात्र है इसमें मौजूद आत्मा जीव है। यह जिस शरीर में होता है उस शरीर के गुण, कर्म और अपेक्षा के अनुरूप मृत्यु के बाद नया शरीर धारण कर लेता है। आत्मा न तो जन्म लेता है और न इसकी... Read More